Lal Qila/ Red Fort – A proud monument dumped by the its own Govt.

लाल किले को 5 वर्षो के लिए डालमिया ग्रुप को लीज पर दे दिया गया…

Lal Kila

कुछ मोदी भक्त लोग CSR (Corporate Social Responsibility) का बहाना मार कर बोल रहे हैं कि इससे डालमिया को कोई फायदा नही होगा। वो तो फ्री फण्ड में कर रहा है। वास्तविकता इससे काफी अलग है।

1. जो लालकिला साल के 18-19 करोड़ कमाता है, उसपर 5 करोड़ प्रति वर्ष लगाने पर डालमिया को हर साल 14 करोड़ का फायदा होगा।

2. ‎ये फायदा भी तब होगा जब टिकट का रेट वर्तमान के हिसाब से 30/- रखा जाए। हक़ीक़त ये है कि टिकट के रेट बढ़ने तय है। कुछ ही समय में ये बढ़के 50/- हो जायेगा। कॉन्ट्रैक्ट के हिसाब से डालमिया को टिकट रेट बढ़ाने का हक़ है।

3. ‎इसके बाद कुछ 2-3 करोड़ का खर्चा करके डालमिया वाले खुद का रिक्शा – ऑटो स्टैंड बनाएंगे। उनसे भी मासिक किराया लिया जाएगा। एकछत्र राज होने की वजह से रिक्शा की सवारी रेट भी तय कर लिया जाएगा। आप रेट के लिए बहस भी नही कर पाओगे।

4. ‎OLA, UBER आदि का पिकअप पॉइंट के माध्यम से भी कमाई होगी।

5. ‎डालमिया ग्रुप ने सिर्फ खुद की ब्रांड प्रमोशन करेगा बल्कि लालकिला परिसर में दूसरी कंपनियों के इश्तिहार लगवा के भी मोटी कमाई करेगा।

6. ‎कुल मिलाकर 18-20 नही बल्कि काम से कम 70-80 करोड़ की कमाई होगी हर साल।

7. ‎ये खुली लूट है। डालमिया का मालिक पुराना संघी है। विहिप के पुराने सदस्यों में इसकी गिनती होती है।

8. ‎अगर PP मोड में प्राइवेट कंपनियों से भागीदारी करवानी ही है तो देश मे लाखों ऐसी धरोहर हैं जिनको संरक्षण की ज़रूरत है। इन कंपनियो से उधर पैसा लगवाओ।

9. ‎लाल किला देश की अमूल्य धरोहर है। हमारे देश की स्वतंत्रता का प्रतीक चिन्ह है। देश का पहला झंडारोहण इसी की प्राचीर में हुआ था। ये मोदी की बपौती नही है जो संघी डालमिया को गिरवी रख दिया।

10. ‎हमारे देश की आन, बान और शान पर इससे गहरा कुठाराघात नही हो सकता। इसका बस चले तो देश की हर अमूल्य धरोहर को प्राइवेट कंपनियों को बेचककर/गिरवी रख कर, अपना झोला उठा कर चल लेगा।

Ambedkar or Bhagat Singh? Who is real Hero of India?

ambedkar_bhagat

भगत सिंह या बाबा साहब अम्बेडकर… कौन है भारत का असली नायक?

अल्प बुद्धि का मित्र पढ़े लिखे दुश्मन से ज्यादा खतरनाक होता है।

कुछ लोग अपने हिंदुत्व वादी एजेंडा को चलाने के लिए आपने बड़ी ही आसानी से बाबा साहब का तिरस्कार कर देते हैं।

भारत कि आजादी में और उसके विकास में हर एक किरदार का अपना अपना योगदान था। क्या आप अपेक्षाकृत कम पढ़े लिखे भगत सिंह जी और चंद्रशेखर जी से उम्मीद कर सकते थे कि वो भारत का संविधान लिख सकेंगे?

भगत सिंह और चंद्रशेखर जी की अपनी महत्वपूर्ण भूमिका थी। उनका काम था भारत के स्वतंत्रता संग्राम को आग देना, ताकि अंग्रेजों में भय आ सके और भारत का युवा जाग सके। उन्होंने अपने प्राणों की आहुति देकर इसमें सफलता भी पायी।

भगत सिंह ने खुद किसी वकील को लेने से इनकार कर दिया था। वो इस मौके का इस्तेमाल खुद कोर्ट में अपने मुह से अपने दिल के बात रख कर करना चाहते थे। इसके लिए आंबेडकर को अपशब्द कहना सही नहीं है।

आपसे एक प्रश्न है। युद्ध में एक डॉक्टर के लिए क्या ज्यादा उचित है…. एक, कि वो बन्दूक पकड़ के लड़ना शुरू कर दे… और दूसरा, कि वो युद्ध में घायल अपने सैनिकों का इलाज करे ताकि कम से कम सैनिक मरें..?

अगर आप सोचते हो कि वो बन्दूक पकड़ें, तो आप गलत हो। एक तो वो पेशेवर सैनिक नहीं हैं, वो एक प्रशिक्षित सैनिक कि तरह नहीं लड़ पाते। जबकि डॉक्टर के रूप में वो अपनी सेना के ज़्यादातर सिपाहियों को मरने से बचा लेते।

स्वतंत्रता संग्राम किसी एक व्यक्ति ने नहीं जीता था। न गाँधी जी ने और न ही सुभाष, भगत सिंह ने। ये वो यज्ञ था जिसमे सबने अपने प्राणों कि आहुति दी थी। सबकी अपनी अपनी भूमिका थी।

आंबेडकर की लड़ाई सिर्फ भारत की स्वतंत्रता तक सीमित नहीं थी। उनका लक्ष्य था कि भारत का जन जन, गरीब से गरीब तबके का मनुष्य, चाहे वो किसी भी जात का क्यों न हो, आजादी प्राप्त करे। उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन संविधान कि पढाई में लगा दिया। आपको जान कर आश्चर्य होगा कि कार्ल मार्क्स के बाद वो अकेले ऐसे विद्वान थे जिन्होंने विश्व प्रसिद्द लन्दन पुस्तकालय के संपूर्ण संग्रह कि पढाई कर ली थी।

उन्होंने आज़ाद भारत का ऐसा संविधान बनाया जिसमे हर जाति, वर्ग, धर्मं का व्यक्ति को समानता मिले और वो देश को आगे बढ़ाये। वो आरक्षण के समर्थक नहीं थे। बड़ी मुश्किल से उनको पिछड़ों के विकास के लिए आरक्षण देने के लिए मनाया गया।

इसमें भी उनका तर्क था कि आरक्षण सिर्फ 10 साल तक के लिए दिया जाएगा। उनकी म्रत्यु के बाद लोगों ने आरक्षण को एक राजनैतिक हथियार कि तरह इस्तेमाल करना शुरू कर दिया।

ऐसे में मेरा अपने सभी देश वासियों से निवेदन है कि अपने देश के वीर नायकों का अपमान न करे। आज उन्ही सब की वजह से हम आजादी की सांस ले पा रहे हैं।

जय हिन्द।

France: Terrorist Attack in Paris – Identifying real enemy!

Paris Attack – Who are the real enemies?

Paris-Bataclan-Rue-Bichat-paris-attack-nov-13-2015-billboard-650

Police in action after Terrorists attack Paris

With the recent attacks in Paris, we are once again rudely reminded that we are living in the crazed world of Islamic Terrorism.

When EU agreed to take in millions of middle-east refugees, I was worried that someday this will happen. West is very proud of its democratic and liberal traditions but mark my words, the same so-called virtue will cost them dear.

paris91-ap-676x450

People running after blasts heard in stadium

Time has come to call a spade a spade. We can not say that these terrorists are fringe elements who happen to be muslims. The very foundation of Islam is rooted in Jihad, intolerance, war against Infidels. No amount of appeasement will make them mellow. In fact they will gain strength from our weak-kneed approach and think of it as their victory over kaafirs.

India has been suffering from Pakistan sponsored terrorism since ages. We used every stage in the world to convey our anguish and inaction of western powers against this balant act of state sponsored terrorism. No one paid heed.

US had its 9/11 just as Indians had their 26/11. US correctly realized that its real enemy is terrorism but failed to realize that it can not be selective in its approach. It was wrong in its assumption that Afghanistan is the centre of world terrorism. Poor Afghanis don’t have the means to inflict such mass scale destruction. The real snake was in the backyard so-called allies like Pakistan and Saudi Arabia. Saudis provide funds and ideology and Pakistanis provided training and manpower. When US asked Pakistan to rein in terrorism in their country, Pakistan managed to befool the US by taking action only against some sections of terrorists. It always protected those terrorists which it thought of as Assets against India. Finding of dreaded Bin Laden in a safe hideout in military barracks of Abbottabad, Pakistan. It was ample proof of involvement of State of Pakistan in world-wide militancy. What action did World take against Pakistan then?

Samuel P. Huntington wrote a book called “Clash of Civilizations”. Many people rubbished it as just a figment of imagination. It is high time that people all over the world realize that Clash of Civilizations is real and happening. Attacks of WTC, Mumbai, Nairobi, London, Paris are ample testament to that.

The real evil lies in the rabid teachings of Islam. Either Islam must detach itself from its rabid teachings or it must perish for the sake of world. It may be sounding very harsh and communal to some Liberals but OUR SURVIVAL IS AT STAKE!!!

Did Muslims really rule India for 1000 years?

Did Muslims really rule India for 1000 years?

First of all there was no Thousand Year of Muslim rule. It is just hogwash taught in the Skewed History Books of Pakistan!

Pakistani Historians wrongly calculate 1000 year Muslim rule in India from the advent of Bin Qasim in 713 AD to roughly about 1857 AD.

Fact is that Muslims just did not suddenly appear from heaven and conquered whole of India in 713 AD!!

Bin Qasim captured Sind in 713 AD and it was under them through Ummaid campaigns and the last Caliphate. By 1005 AD, muslims captured Peshawar. Ghaznavid rule in Northwestern India (modern Afghanistan and Pakistan) lasted over 175 years, from 1010 to 1187.

In 1160, the Ghorids conquered Ghazni from the Ghaznavids, and in 1173 Muhammad Bin Sām (Ghori) was made Governor of Ghazni.

ArabsInAlHind

Most of Pakistani territories enslaved under first Arab conquerors

In 1191, he invaded the territory of Prithviraj III of Ajmer, who ruled much of present-day Rajasthan and Punjab, but was defeated at Tarain by Prithviraj. The following year, Mu’izz al-Din assembled 120,000 horsemen and once again invaded India. Mu’izz al-Din’s army met Prithviraj’s army again at Tarain, and this time Mu’izz al-Din won; Prithviraj was executed and Mu’izz al-Din advanced onto Delhi. Within a year, Mu’izz al-Din controlled Northern Rajasthan and Northern Ganges-Yamuna Doab. After these victories in India, and Mu’izz al-Din’s establishment of a capital in Delhi.

Delhi Sultanates

Lands in Muslim rule under various Kingdoms/Sultanates

Thus we see that by 1200 AD Muslims were able to reach only till Delhi. That makes 500 years. Rest of Indian Subcontinent was still free of Islamic rule.

Muhammad’s successors established first Delhi Sultanate in 1211 and ruled much of Central India, upto Bengal. The Delhi Sultanate lasted till 1526 AD. That makes 300 odd years of rule in Central India upto Bengal.

Point to be noted is that certain kingdoms still remained independent of Delhi such as the larger kingdoms of Punjab, Rajasthan, parts of the Deccan, Gujarat, Malwa (central India), and Bengal, nevertheless all of the area in PRESENT DAY PAKISTAN came under the rule of Delhi Sultanate.

Timur Lane, founder of Timurid Empire crossed Indus river in Attock in present day Pakistan and started his campaign of raping, looting and pillaging whereever he went. Present day Pakistanis bore the severe burnt of his cruelty. Timur’s Army met Delhi Sultan’s Army in 17 December 1398 and defeated them. Timur entered Delhi and the city was sacked, destroyed, and left in ruins. Before the battle for Delhi, Timur executed more than 100,000 “Hindu” captives.

Timur left Delhi in approximately January 1399 after looting tonnes of precious jewels from India. He was a marauder who killed anyone who opposed him be a Muslim or a Hindu. No sane person would be proud to attach Islam with him. (Only Pakistanis do)

Mughal rule of 50 years under Empror Aurangzeb

Mughal rule of 50 years under Empror Aurangzeb

Mughal Dynasty started in in 1526 after the defeat of Lodhi Sultan in Panipat and ended with Aurangzeb in 1707. It was only under Aurangzeb that almost all of India from north to south and east to west was under Muslim rule. Aurangzeb ruled between 1658-1707. That means 50 of years of complete rule in India.

So finallly what we deduce from it?

  1. There was not continuous Islamic Rule of 1000 years in India.
  2. Only Mughals ruled most of Indian Subcontinent
  3. Rest of Muslim rulers/invader ruled only a part of India at a time.
  4. Effective overall Muslim rule over most of Indian landmass was only for a period of about 100-150 years!

So I can safely conclude that all this talks of 1000 year Muslim rule in India is simply hogwash. It is a deliberate alteration of history by some Muslims (particularly Pakistanis) to show how they were superior to Indians.

Special note for all Pakistanis bragging about ruling India:

Since when Muslim rule in India became “Pakistani rule in India”??

India still has more Muslims than Pakistan. Pakistan is not the legal representative of Muslims all over the world. Moreover, all those dynasties which ruled India we not Pakistanis. They were Turks, Mongols etc.

Many Pakistanis falsely claim that they became Muslims due to Sufi movement. Infact it were the native Pakistanis who were first enslaved, killed and converted in huge numbers under sword. India is still predominantly Hindu whereas Pakistan is almost all Islamic. This clearly shows which people bowed down to the foreign marauders and are still hesitant to associate themselves from their ancestors.

All Pakistani readers of this post who disagree with me should read about Muslim rule in Indian Subcontinent from neutral sources. Pakistan Studies History text books count for zilch.

Who was right? Gandhi or Godse? कौन सही? गाँधी या गोडसे?

चलिए थोडा सा ज्ञान वर्धन हो जाए २ अक्टूबर गाँधी जयंती के उपलक्ष्य में :

gandhigodse

आज २ अक्टूबर है. कुछ साल पहले तक आज के दिन हर जगह गाँधी जी का महिमा गान होता था…. पर आजकल गाँधी जी को गालियाँ देना बहुत आसान है।

गाँधी जी एक ऐसे पिता के सामान थे जिनके दो पुत्र थे.. एक भारत और एक पाकिस्तान…. पाकिस्तान बिगड़ी हुई औलाद था जो घर के बंटवारे पे अड़ गया।  गाँधी ने उसको (जिन्ना) समझाने कि बहुत कोशिश करी पर वो नहीं माना। आखिर में जब घर का बटवारा हो ही गया तो क्या गाँधी जी अपने छोटे पुत्र को ऐसे ही छोड़ देते ? माँ बाप कि दृष्टि में दोनों ही बच्चे प्यारे होते है…. गाँधी जी को लगा कि जब छोटा बेटा अलग रहने ही लगा है तो कम से कम वो अपनी आजीविका ही चला सके। इसके लिए उन्होंने भूख हड़ताल कर दी ताकि उसको थोड़े पैसे मिल जाए और वो आराम से जी सके।

यहाँ से नाथूराम गोडसे का रोल शुरू होता है। पाकिस्तान ने जब सहायता राशि कि पहली किश्त प्राप्त की तो उसी पैसे का उपयोग कर के उसने कश्मीर पे हमला कर दिया। नाथूराम और उसकी जैसी विचार धारा के लोगों को लगा कि ऐसे में गाँधी जी का पाकिस्तान के लिए रोना बिलकुल ठीक नहीं है…. इसी कारण से उसने उनकी हत्या कर डाली।

यहाँ दोनों किरदार ही अपनी अपनी जगह सही और गलत हैं। जब गाँधी जी देख ही लिया था कि पाकिस्तान कि नीयत कैसी है तो उसके लिए भूख हड़ताल करना सरासर गलत था। उधर गोडसे द्वारा गांधी जी की हत्या करना भी एकदम गलत था। अगर आपके विचार किसी से नहीं मिलते तो इसका ये मतलब नहीं कि आप उसकी हत्या कर डालो। ये तालिबानी मानसिकता है। हम भारतियों को चाहिए कि हम इतिहास के दोनों पहलुओं को अच्छे से समझे और अपनी बुद्धि से निर्णय करे कि क्या सही है और क्या गलत…. देश हित को सर्वोपरि रखे और किसी भी जाति, समाज, पार्टी, धर्म को बाद में….. गाँधी जयंती के मौके पर यही हमारा संकल्प होना चाहिए.

हमारे जीवन में कोई भी सवाल आये… बस यही सोचे कि इससे मेरे देश को कोई फायदा मिलेगा या नहीं….. सबसे पहले भारत माता, बाद में सब कुछ….